मैं समय हुँ / Main Samay Hun

POETRY

Abhijeet Kumar

Saagron ke dwip dhara par, reton ko dahakte dekha

Maine krur hriday kaanton ko, kunjo ke beech mahakte dekha

Mere aage hi manav ne ghutno ke bal chalna seekha

Mere haanthon me prakriti ne, nirmamta me palna seekha

Maine manu-shatrupa ka wah shrishti nirupan bhi dekha

Maine parshuram jaiso ka Akhil visarjan bhi dekha

Mere aangan me hi kanha gopi raas kiya karta tha

Shankar baith goud me meri vish ka pan piya karta tha

Maine veeron ko gaurav ki gathayein gadhte dekha hai

Maine saraswati ko apne gurukul me padhte dekha hai

Maine pristh bhumi dekhi hai aadarshon ke chhawiyon ki

Maine sujan kala dekhi hai maataon ki, guruon ki, kaviyon ki

Tum mujhko kya dekh sakoge main ajay hun, main pranay hun

Main adhishtha, main ajanma, main samay hun, main samay hun

सागरों के द्विप धरा पर, रेतों को दहकते देखा

मैने क्रूर हृदय काटों को, कुन्जों के बीच महकते देखा

मेरे आगे ही मानव ने घुटनों के बल चलना सीखा

मेरे हांथों में प्रकृति ने, निर्ममता मे पलना सीखा

 मैने मनु-शत्रुपा का वह श्रिष्टि-निरुपण भी देखा

मैने परशुराम जैसों का अखिल विसर्जन भी देखा

 मेरे आँगन में ही कन्हैया, गोपी रास किया करता था

शंकर बैठ गोद में मेरी, विष का पान किया करता था

 मैने वीरों को गौरव की गाथाएँ गढ़ते देखा है

मैने सरस्वति को अपने गुरुकुल मे पढ़ते देखा है

 मैने पृष्ठभूमि देखि है आदर्शों के छवियों की

मैने सुजन कला देखी है, माँ कि, गुरु कि, कवियों कि

 तुम मुझको क्या देख सकोगे, मैं अजय हुँ, मैं प्रणय हुँ

मैं अधिष्ठा, मैं अजन्मा, मैं समय हुँ, मैं समय हुँ

© Copyright 2021 Abhijeet Kumar - All rights reserved