दर्द अब मेरे कलम में / Dard Ab Mere Kalam Mein

POETRY

Abhijeet Kumar

किसको बताऊं बात ये, जो रश्मियों ने छल किया,

देखो तारा चाँद से, अब दूर क्यूँ रहने लगा है

भयभीत है जब खुद उजाला, बात हम किसकी करें

प्रीत जिससे थी ये रोशन, दीप वो बुझने लगा है

उसके आने की ख़ुशी, रोकूँ मैं कैसे कब तलक

बेसब्र हो चंचल ये मन, अब जाने क्यू चहकने लगा है

मेरे ख़ुशी के गीत में भी पीड के स्वर क्यूँ छुपे

दर्द शायद रूह का पर्याय बन रहने लगा है

क्या दर्द मेरी लेखनी की रूह में भी बसने लगा है?

क्या दर्द अब मेरे कलम में रूह बन रहने लगा है?

Kisko bataoon baat ye, jo rashmiyon ne chhal kiya,

Dekho taara chaand se, ab door kyoon rahane laga hai

Bhayabheet hai jab khud ujaala, baat ham kisakee karen

Preet jisase thee ye roshan, deep vo bujhane laga hai

Uske aane kee khushee, rokoon main kaise kab talak

Besabr ho chanchal ye man, ab jaane kyoo chahakane laga hai

Mere khushee ke geet mein bhee peed ke svar kyoon chhupe

Dard shaayad rooh ka paryaay ban rahane laga hai

Kya dard meree lekhanee kee rooh mein bhee basane laga hai?

Kya dard ab mere kalam mein rooh ban rahane laga hai?

© Copyright 2021 Abhijeet Kumar - All rights reserved