आइना मुझ पे हंस देता है / Aaina Mujh Pe Hans Deta Hai

POETRY

Abhijeet Kumar

देख जब आइना मुझे, मुझ पे ही हंस देता है,

अपनी सूरत में खता क्या है, कसक देता है

‘हम ही ने तराशे पत्थर, जो हैं भगवन से सजे मंदिर में,’

कर ना नापाक अब तू छू के उसे, पुजारी ये धमक देता है

दिए जब गम, जिन्हें हमने अपनी हर ख़ुशी दे दी थी,

अपनी किस्मत पे ये आँख भी दो आँसूं सिसक देता है

हमने क्या कह डाले, सपनो में बसे कुछ मंज़र,

उसपे इश्क का रंग क्यूँ, दुनिया ये चढ़ा देता है

करेगा क्या रहम दुनिया, ज़हर अपना तू खुद ही पी लेना

ज़िन्दगी हर कदम पे मुझको यही सबक देता है

Dekh jab aaina mujhe, mujh pe hin hans deta hai,

Apni soorat mein khata kya hai, kasak deta hai

‘Ham hee ne taraashe patthar, jo hain bhagavan se saje mandir mein,’

Kar na naapaak ab too chhoo ke use, pujaaree ye dhamak deta hai

Diye jab gam, jinhen hamne apni har khushee de di thi,

Apni kismat pe ye aankh bhi do aansoon sisak deta hai

Hamne kya kah daale, sapano mein base kuchh manzar,

Uspe ishq ka rang kyoon, duniya ye chadha deta hai

Karega kya raham duniya, zahar apana too khud hin pi lena

Zindagee har kadam pe mujhko yahee sabak deta hai

© Copyright 2021 Abhijeet Kumar - All rights reserved